आश्चर्यजनक परिणाम – देखे क्या हुआ जब हुई रुपये ५०० के नोट की अग्नि परीक्षा

८ नवम्बर २०१६ की रत ८ बजे प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने घोषणा की, की रात १२ बजे से रुपये ५०० और रुपये १००० के सभी नोट बंद कर दिए जाएंगे. साथ ही साथ उन्होंने रुपये ५०० और रुपये २००० के नए नोटों की भी घोषणा की जो की सभी नागरिक १० नवम्बर से अपने निकट के किसी भी बैंक के ब्रांच से बदलवा सकते थे और वो अपने पुराने सभी नोटों को अपने बैंक खाते में जमा करवा सकते थे.

श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा लिया गया यह कदम के बारे में किसी ने सोचा भी नहीं था और यह सभी नागरिको के लिए एक बड़ा फैसला था. लोगो को अब यह बात समझ आ गयी थी की श्री नरेंद्र मोदी जी का यह फैसला विश्व भर में भारतीय नागरिको द्वारा जमा की गयी किसी भी गहोशित आय यानि ब्लैक मनी को अवैध बना देगा और लोगो ने इस फैसले को खुले दिल से स्वीकार किया और उसका स्वागत किया.
लोग जानते थे की अब कुछ दिनों तक सबही को कठिनायों का सामना तो करना होगा, पर इस से हमारे देश का बहुत भला होगा. भारत भर में लोगो ने श्री नरेंद्र मोदी जी के इस फैसले में उनका साथ दिया और कुछ दिनों की तकलीफ को देश हित में स्वीकार किआ.

हम सभी नागरिक श्री नरेंद्र मोदी जी को भारत को फिरसे सोने की चिडया बनाने में उनकी पूरी तरह से मदत कर रहे है और उनके कदम से कदम मिला कर के पूरा देश आज एक साथ चल रहा है.

शुरुवात के कुछ चार दिनों तक बैंको और एटीएम में से रुपये १०० के और रुपये २००० के नोट ही मिल रहे थे. रुपये ५०० के नोट जो की लोगो के लिए ज्यादा जरुरी थे आबि भी उपलब्ध नहीं थे. १३ नवम्बर २०१६ को वित्त मंत्रालय ने अस.बी.आई. के पार्लियामेंट स्ट्रीट ब्रांच में रुपये ५०० के नोटों को लांच किआ. और अगले कुछ ही दिनों में ये भारत भर के सभी शहरो में लोगो तक पहुच भी चूका था.

इतना बड़ा कदम इतनी समझदारी से लिया गया और लागु किया गया है की हम इस कदम की सराहना करते है और भारत सर्कार को ऐसे बड़े फैसले लेने के लिए शुक्रिया भी करते है.

अब १२ दिनों से अधिक बीत चुके है और ५०० रुपये के ये नोट भारत भर में फ़ैल चूका है. ऐसे समय पर लोगो ने ध्यान दिया और यह बात सामने आयी की रुपये ५०० के नए नोटों में प्रिंटिंग की कुछ गलतिया है जो की अलग अलग बैच के नोट में काफी आसानी से दिख रहे थे. इससे लोगो में कच उलझन सी बी मचने लगी थी. तभी आर बी आई ने सामने आकर यह बात स्वीकारी और यह सुनिस्चित किया की यह सभी नोट बेझिज़ख स्वीकार जा सकते है.

क्योंकि हम जानते है की नोटों में कच प्रिंटिंग में गलतियां हुई है, हम हमारे रीडर्स को बताना चाहते है की वे इन नोटों को स्वीकार सकते है. पर प्रिंटिंग में की गयी इन गलतियों ने हमारे जेहम में ये शंका भी पैदा कर दी की कही इस दौरान नोटों की क्वालिटी में कोई समझौता तो नै किआ गया है.

इसलिए हमने रुपये ५०० के नए नोट के साथ अपना एक अलग टेस्ट किआ. हमने रुपये ५०० के एक नोट को पानी में भिगोए रखा, उसे डिटर्जेंट से धोया और दो घंटो तक उसे पानी में रहने दिया. २ घंटो के बाद जो हमने देखा, वो काफी आश्चर्यजनक था. आप खुद ही देख लीजिये.

Related Post

4 Comments

  1. बड़े बड़े फैसले एक दम किये जाते हैं,जीवट ही क्र सकता है कोइ खास दिक्कत नहीं महसूस की,बढ़ी शांति से बैंक कर्मचारी पूरे लग्न से कार्य रत हैं,जनसाधारण भी आज़ादी को बचाने के लिए यह आवश्यक है,कर्मठ योद्धा मोदी शाबाश,शुभकामनाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*